विजेट आपके ब्लॉग पर

Thursday, December 1, 2011

हम तुम भी ---

वैरागी ! मन से बंजारे ,
आसमान से  टूटे तारे  ,
कह न सकें भी सूने ऐसे  -
हुए , भरे भण्डार हमारे  ,
जीना क्या घर के मधुवन के शूलों जैसे हैं !?
बहती सरिता की धारा के कूलों  जैसे  हैं   !!
ऐसी रच ली राम कहानी ,
चार दिनों बस चली जवानी ,
सोन चिरैया उड़ गयी फुर से -
आन हो गयी पानी-पानी ,
उड़े , हाथ आ , तोते ! टूटे  झूलों   जैसे   हैं  !!
ये पश्चिमी हवा के झोंके ,
उड़ा ले गए बसन घरों के ,
नंगेपन की अंधी आंधी -
सुख लूटे सहमी लहरों के ,
तूफानों से   तूलों में   मस्तूलों    जैसे    हैं   !!
सपने लुटते चोरी -चोरी ,
ऐसी बँधी प्रीति की डोरी ,
नींद हराम हो गयी फिर भी -
रात , सुनाती जाए  लोरी  ,
हम तुम भी  डाली  से बिछड़े  फूलों जैसे हैं   !!
जीना क्या घर के मधुवन के  शूलों जैसे हैं  !!


Wednesday, November 16, 2011

गली से गुजरे

वो  निगाहों में   लिए  जाम   गली से गुजरे /
हुस्नगर सज के सर-ए-शाम, गली से गुजरे /

ऐसे निकले , हो खिला झील में कमल जैसे ,
मस्त शायर  ने  कहीं  छेड़ दी  गजल जैसे ,
नीद ! रातों  में की  हराम , गली से गुजरे /
वो निगाहों में लिए जाम  ,  गली से गुजरे /

ख्वाब में यार ये अंगडाईयों के दौर तो हैं,
प्यासी बाहों में ये, परछाइयों के दौर तो हैं ,
रह गए यार ये दिल थाम,  गली से गुजरे /
वो  निगाहों में   लिए  जाम ,  गली से गुजरे /

दर्द दिल में नहीं कमतर भी कभी सपनों का ,
एक गम प्यार का शामिल है ये भी अपनों का ,
दर्द-ए - दिल , दे के वो तमाम, गली से गुजरे  /
वो  निगाहों में   लिए  जाम ,   गली से गुजरे /

यार बरसात में भीगी हुई लटों की कसम ,
रातों में आयें , सताएं जो  करवटों की कसम ,
नज़र से करते क़त्ल-ए - आम, गली से गुजरे /
वो  निगाहों में   लिए  जाम  ,  गली से गुजरे /

ऐसी हसरत से निगाहों की सरहदें देखीं,
लिपट के सायों से बाहों की सरहदें देखीं,
ऐसे कर देंगे वो बदनाम , गली से गुजरे /
वो  निगाहों में   लिए  जाम, गली से गुजरे /

Saturday, October 29, 2011

जो लिपट जाऊं

हम सफ़र कैसे अज़ब हैं मेरे साए  ऐसे !

ऐसे अपने हैं ,  रहें  दूर   पराये     जैसे !!

कदम कदम जनमजनम  ये उजालों में चले 
गुम ! अंधेरों में  हुए  कोई बताये कैसे !

फिर भी सीने से लगा लेने को मजबूर हूँ मैं 
और हर रात सितम सायों ने ढाए कैसे ?

जो लिपट जाऊं ,समा जाएँ जान-ओ-जिस्म में ये 
ऐसे गायब हों कभी घर नहीं आये  जैसे !                                   

कैसी   चाहत के ये दस्तूर निभाते रहते 
आग खुद ही लगाए कोई बुझाए  जैसे !jo

जिन्दगी भर का साथ छूटे न मरते दम तक 
,मेरे साए मेरी साँसों में समाये  ऐसे  !

Friday, October 28, 2011

श्रद्धांजलि

सूनी घाटी के सूरज  की  कीर्ति कथा अति न्यारी !

वरद लाल वाणी के भारत का जन मन बलिहारी !

विश्व पटल पर हिन्दी की नव व्यंग्य ध्वजा फहराकर ,

अमर हुए  श्रीलाल शुक्ल , रच  अमर  राग दरबारी!!

            सत्य धाम यात्रा पर करता नमन राष्ट्र यह सारा !
          श्रद्धा सुमन समर्पित पदतल कोटि प्रणाम हमारा !

























Thursday, October 20, 2011

जैसी करनी वैसी भरनी

वहशी हो कोई ,करनी जैसी वैसी ही भरनी भरता है !

वह क़त्ल करे छाए जितना ,कुत्ते की मौत ही मरता है !

हर सख्स खुदा का बन्दा है हर एक अगर यह याद रखे ,

इंसान वही जो मालिक को और मौत को याद भी करता है !


जैसी  करनी  वैसी  भरनी 

Saturday, October 15, 2011

प्रभु चन्द्र दें वरदान करूँ दिव्य आरती

  करवा चौथ के विश्वास व्रत के नाम नारियों का पैगाम =======

                  वो!  चाँद, अगर देख लेगा, मेरा  चन्द्रमा !
                 
                सोंचेगा प्रभु !मिली मुझे ये कैसी कालिमा !
           
                बन्धन ये प्यार का पिया से आर- पार का -

                भगवान्! नाथ! मैं हूँ, रमा जैसी प्रियतमा  !!

             वरदान  प्रभु   का नाथ ये विश्वास का बन्धन    !
            दीपक  ! नयन के नाथ ,व्रत ये आस का वन्दन  !!
             रखवाले , विनायक हैं सुख के , माता  भारती !
              प्रभु चन्द्र ! दें वरदान , करूँ दिव्य  आरती    !!!


   



        

Friday, October 14, 2011


याद अब तक , है वो सोंधी सी महक धरती की  
   दूर  रहकर  भी  नहीं, गाँव!  भुलाए   भूले /
रहट -के गीत ,वे  पनघट , नदी वो ताल   भरे  
    बूढ़े बरगद की  नहीं  छाँव  भुलाए भूले /

अब भी आँखों में  उमड़ते  हैं वो सावन भादों 
     झूले मेंहदी रचे  न  पाँव    भुलाए भूले /

 आह उठती है हूक ,सुनते कूक कोयल की  
      वे मिलन के न  ठौर -ठाँव भुलाए भूले /

 बैठ  छत  की  मुंडेर , टेरते   सवेरे  से 
काग  की वो न कांव काँव   भुलाए भूले  /             

नहीं   गाँव   भुलाए   भूले =================                                                                                                                                                                                                                                                                                                             

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              

Wednesday, October 12, 2011

वृन्दावन में रस आँगन में =============



\वृन्दावन  में रस आँगन में , रस रास विलास, करें , भी  कभी !
!मधुवन जीवन ,इस जीवन में ,पल भर वनवासकरें भी  कभी !

         कण कण क्षण क्षण नव रस बरसे  
                           यदि प्यासे और नयन तरसे 
सचमुक्तिकहाँ जग बन्धनमें पर मुक्ति प्रयास करें भी कभी !

        सुख तो सुख है बस नाम का है 
                              सम्बल श्री राधे श्याम का है 
उद्गारों में , व्यवहारों में , प्रिय! में विश्वास  करें भी  कभी !

        दो पग कब साथ चले अपने 
                             वो  नयन लूटे जिनसे सपने 
उन अधरों और  स्वरों में भी स्नेहिल आभास, भरें भी कभी !

         पल -पल बीता जलते -जलते 
                            मन को छलते ,पथ पर चलते 
जलना जीवन दीपक से जलें ,हर ओर, प्रकाश  भरें भी कभी !

         वृन्दावन  में  मनमीत  मिलें 
                           रस में  डूबे  नव  गीत  मिलें 
मुरलीधर के गिरिवर धर के हित में उपवास करें भी कभी !
वृन्दावन में रस आँगन में रस रास बिलास करें भी कभी  !1
                            







Tuesday, October 11, 2011

श्रद्धा सुमन

वेदना के स्वर सरोवर को नमन = = = = = =
==============================


वो दर्द के हमदर्द थे  , मालिक थे उस आवाज़ के  !

क्या गायकी नायाब वह भी साज़ या बिन साज़ के ?

यादों में ,दुनिया में रहेंगे,  वह ग़ज़ल या गीत की   !

मरकर भी फ़न से हो गए सदियों अमर जगजीत जी !

श्रद्धा   सुमन  

Sunday, October 9, 2011

दिल की दीवारों पर मैंने

वह   कहते कविताई मैंने भोगा हुवा अतीत  लिखा  १

मन से हो न सके जो मेरे , उनको ही मनमीत लिखा 

जीवन की पीड़ा ने पहने जब स्वर व्यंजन के गहने ,

कहने लगी झूम कर दुनियाँ , दीवाने ने गीत लिखा ११

फिर       भी  ================


दिल की दीवारों पर, मैंने, प्यार का,  जब, पैगाम लिखा  ,

प्यास समन्दर जैसी पागल, सच बादल को जाम लिखा 

दिल की दिल में रही , कि तुझको लैला शीरीं हीर लिखूं -

जब कुछ भी लिखना चाहा , हर गीत ,तुम्हारे नाम लिखा 11''

          
     








वंशी न वंशीवाला

विरह वर्णन ! वह भी श्रीराधाश्याम का ;शब्दसृजन की सामर्थ्य से परे , जो कुछ रचा गया कोई  , सत चित आनंदमय हो ,इसी लालसा से विरही मन की व्यथा का गान ,भक्ति गीत ++++++++++++++++=====

वंशी  , न  , वंशीवाला           मधुवन  हो कैसे  फूले  !
घनश्याम जैसा काला           पी ले   , लहू भी  तू  ले !        
   रसिया है भोर सूनी  डसती है  साँझ  ऐसे 
   साँसों की वो सुरीली सरगम है बाँझ जैसे
सुख है विरह का आला          दुःख सारे लंगड़े-  लूले !
वंशी न वन्शीवाला =====================
   भावे न फूटी आँखों हरियाली तेरा सावन 
 वृज सूना ,सुनें कैसे वंशी की धुन् लुभावन?
छलके नयन का प्याला         फंदे  , गले  के, झूले !
वंशी न वंशीवाला =====================

हे खिलने वाले वन सुन  कटती हैं कैसे रातें
 हर रात  अमावस है,  पावस सी हैं बरसातें
 गिर जाए  जैसे  पाला       तन , चाँदनीजो छू ले !
वंशी न वंशीवाला ===================
नटखट है सूना गोकुल यमुना के तट वो घाटी 
  ले सौंह  न मारूंगी, मन भर, ले खा ले  माटी 
  मैया ! भी, टेरे लाला ! मन मानी , आ   बहू ले  !
  वंशी न वंशीवाला ==================
  मन प्राण जलते वृज के खिलती हैं कलियाँ
   बरसाना वृन्दावन की सूनी हैं गलियाँ ऐसे
   गिरिवर उठानेवाला ,  कब आये भटके -भूले ?
   वंशी न वंशीवाला   मधुवन  हो  कैसे   फूले  ?

                  श्री राधे श्री राधे राधे
                      राधेश्याम हरे
                   ++++++++++++


Saturday, October 8, 2011

हिन्दवानी की कसम

जी रहे जन से सुमन बंधन बनाने के लिए //

पी रहे विष राष्ट्र का निधिवन सजाने के लिए //

अन्य के हित के लिए विष भी निगलना,धर्म है 
अग्निपथ भी धर्म के रक्षार्थ चलना धर्म है 
छल करे जो ऐसे शठ को सत्य छलना धर्म है 
देश हित में बनके दीपक सत्य  जलना धर्म है 

धर्म के प्रतिकूल करते शूल का नित संचयन 
धर्म पथ पर हम चले अब पग बढाने के लिए //

राष्ट्र हमसे राष्ट्र के हम ,अब भुला सब भ्रान्तियाँ
राष्ट्र की  रक्षक  हमारी एकता की  कान्तियाँ 
विश्व के कल्याण पथ पर कब सताएं श्रान्तियाँ 
हम उठे जागे नहीं यदि व्यर्थ हैं यह क्रान्तिया 

एक  है  संकल्प  जन  गण राष्ट्र  का  हो  उन्नयन 
सब  बढ़ें  पथ  पर  विजय  दीपक  जलाने  के  लिए //

जान लें नेता जो जन गण सुख से खेलें होलियाँ 
मिल गए अवसर अभी लें लूट भर लें झोलियाँ 
किन्तु अपने मान की लुटने न देंगे  डोलियाँ 
फिर कफ़न सर बाँध यदि चल दीं शहीदी टोलियाँ 

हिन्दवानी की कसम ,पानी न माँगे  पायेंगे ,
राष्ट्र पर जिस दिन चले जन बलि चढाने के लिए //



                                                                         



                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                         

Saturday, October 1, 2011

चलो दुश्मन की छाती पर

ये धरती माँ हमारी है , गगन अब तक हमारा है    १
लुटा कैसे भी  हो कितना , वतन अब भी हमारा है  !
हमारे लूट लें सपने भले , नेता ये रखवाले 
शहीदों की शहादत , वो कफ़न अब तक हमारा है  !!

वह देश पर मिटे जो , भूखे भी थे नंगे थे  !
शम्म-ए-वतन की लौ में जले जैसे पतंगे थे १
हँसते लुटाई जान गाते वन्देमातरम ---
कुछ फूल देखे , हाथ में लहराते तिरंगे थे ! जिसके 

सभी हिन्दोस्थानी हैं सभी हैं एक हम लिख दें ! 
हमारी एक खुशियाँ एक हैं रंज-ओ - अलम लिख दें!
वो दौलत क्या है जिसके दम से है ये गुलसिताँ रोशन ,ऍम 
चलो दुश्मन की छाती पर भी  वन्दे मातरम् लिख दें  !१!

हमारे आचरण पर सत्य होंगे रो रहे बापू  १
नहीं तो कब्र में चिर शान्ति में थे सो रहे बापू !
सदा संसार पूजे मैल  मन में मत रहे बापू     !
तुम्हारे नाम पर हम देश अपना ढो  रहे बापू !



वेदना से परे मन से मन का मिलन ---

वंदन है महौषधि सच न सजे उपचार  बिना जीवन 
ध्रुवसत्य प्रिये  सुन्दर  न लगे श्रृंगार बिना  जीवन 
स्वीकार करो न करो इतना अधिकार तुम्हारा है , 
विश्वास करो सँवरे न कभी भी प्यार बिना जीवन

             +++

वेदना से परे मन से मन का मिलन  
सच स्वयं से कभी प्यार भी तो करो !
छवि से सुन्दर सुछवि हो स्वयं प्रियतमे 
मन से जीवन में श्रृंगार भी तो करो  !!
  वेदना  से परे मन से मन का मिलन ---

रस की गागर हैं सागर तुम्हारे नयन 
आये तन के भवन मन के द्वारे नयन 
तारे टूटे मगर मन न टूटा कभी 
प्रीति पथ पर  न पल भर भी हारे नयन 
देखो दर्पण ह्रदय में भरा अपनापन 
काँच से दो नयन चार भी तो करो !
वेदना से परे---------------------

अंग प्रत्यंग तन मन सजा लीजिये 
भाल पर लाल बिंदी रचा लीजिये 
चाहने वाला दर्पण सा कोई नहीं 
तृप्ति ! प्यासी है जी भर लजा लीजिये /
राधिका सी सजा तन का यह वृन्दावन 
कृष्ण मन तृष्ण उपकार भी तो करो /
वेदना से परे -----------------------


मन की आशा का पनघट न प्यासा रहे ,
अपनेपन का अधर तट न  प्यासा रहे  , 
भरके अंजन नयन से नयन जब मिलें 
दो नयन प्यासे घूँघट न प्यासा रहे  ,
सीख तो बाहों में भरना लो अपना तन -
सार जीवन है अभिसार भी तो करो /
वेदना से परे ------------------------

रँग लो जीवन सुमन  प्रीति के रंग से ,
प्यार बरसे प्रिये तन के हर अंग से 
मन मदन भी बहकने लगे देखकर 
सन्त मन के लगें होने व्रत  भंग से  ,
सोंच मत कर न संकोच हो नव सृजन 
सत्य यह एक स्वीकार भी तो करो  !
वेदना से परे -----------------------

कर्म पथ पर भरी आग ही आग है 
साँस की बाँसुरी में महा राग है , 
बाग़ जीवन का अनुराग से ही सजे  
प्यार बसता जहाँ फाग ही फाग है ,
तपते -तपते तरल कब हो मन की तपन 
प्रेम से पूर्ण उपचार भी तो करो  /

अब ये माने प्रिये या की माने नहीं 
साँस में प्रेम के अना यदि तराने  नहीं 
तन सजाया न मन यदि सजाया गया
 फिर तो सजना सजाना ही जाने नहीं 
इससे पहले कोई आ ओढ़ाए कफ़न 
ये नदी नेह की पार भी तो करो  ,/
वेदना से परे -----------------------
मन से मन का मिलन --------------

वेदना  से  परे  मन  से  मन  का  मिलन ---

Wednesday, September 28, 2011

दुनिया को हँसाया जाए

वक़्त !  मोहलत किसे खबर दे न दे फिर कल,
 आज हँस लें ज़रा  दुनिया  को हंसाया जाए / 
दर्द-ए -दिल, ले ले गम-ए-जिन्दगी जो गीत ग़ज़ल,
 बस तरन्नुम में वही यार सुनाया जाए /

गैर के काम भी आयें  कभी पुरखों की तरह ,
 जोश-ओ-जज्बा नहीं सूरत नज़र नहीं आती ,   
सबको हासिल  हों जिसके पत्ते बूटे,  फूल- ओ- फल,
 दरख़्त ऐसा सायादार लगाया जाए   / 

खाक ! मतलब की कहाँ रह गयी तालीम कोई ,
 पढ़ के भी सिख ईसाई हिन्दू मुसलमां हैं हम ,
धर्म-  मजहब से जुदा आदमी की पनपे नसल ,
 वो मदरसा !  कभी कोई तो  बनाया जाए  /

वहशतों का ये दौर और न आगे आये ,
 कोई दंगा - फसाद,  खून-  खराबा  न बढे , 
ऐसे हैरत भरे मंजर न मिलें और भी कल ,
 आदमीयत का जनाजा न उठाया जाए  /

ऐसी तहजीब है अजीब , नाम दें भी क्या ,
 साए भी,  हाथ में साए पे उठाये खंजर ,
क्या यकीं कब हो साँस आख़िरी न पाए टल,
खुद कफ़न अपना ज़रा सी लें तो जाया जाए /

अब हैं बेमानी मुहब्बत की,  प्यार की बातें ,
 नफरतों का वो सिलसिला नहीं रुका दम भर , 
कल कोई दिल से दिल मिलाये ये खुदा का फज़ल ,
 जो मिले आज गले सबको लगाया जाए /






Tuesday, September 27, 2011

हम तुम्हारे गाँव

यह रचना मेरे सुकवि बन्धु राम मोहन शुक्ल "सजल" का सृजन है , आप सभी के  स्नेहाशीष की अपेक्षा में -------


हम तुम्हारे गाँव , आयेंगे कभी फिर ,
आज मन की साँझ, गहराने लगी  /   
वेदना विचलित , मिलन की आस के पल,
प्यास मन का दोष ठहराने लगी  /
 हम तुम्हारे गाँव ---------------

पूछते हो हाल, सब कुछ ठीक है ,
मुक्त मन पर वेदना की लीक है  /
पाहुने प्रतिबन्ध के घर आ टिके ,
बांसुरी की साध , घबराने लगी  /
 हम तुम्हारे गाँव----------------

क्या कहा ? हम रास्ते से हट गए ,
दरअसल कुछ लोग हमसे कट गए /
बन गए हैं ईद का हम चाँद तो क्या ,
घर  तुम्हारे -  पूर्णिमा आने लगी  /
 हम तुम्हारे गाँव -----------------

बेबसी के गीत , अब भी बेचता हूँ ,
नियति के फुटपाथ का असली पता हूँ /
हो सके तो भेज देना एक पाती  ,
इस पते पर रात भरमाने लगी  /
 हम तुम्हारे गाँव आयेंगे कभी फिर ,
आज मन की साँझ गहराने लगी /  

                         -   राम मोहन शुक्ल "सजल"


   


Sunday, September 25, 2011

राजनीति के रावण

वेद पुराणों में जननी की, जन्मभूमि की कीर्ति बखानी / 
आजादी की अज़ब कहानी , कहतीं प्यारी दादी-नानी /

वहशी तुर्कों ने लूटा धन- कंचन , धर्म-कर्म चोरों ने ,
व्यापारी बन हिंद देश को , फिर लूटा पापी गोरों ने  /

अलख जगाकर तब स्वराज की , खूब लड़ी झांसी की रानी /
आजादी की अज़ब कहानी , कहतीं प्यारी दादी-नानी /

नेताजी, आज़ाद, भगत, बिस्मिल, सावरकर की गाथाएँ ,
इस धरती पर लाल लुटाती आयीं, हँस -हँस कर मातायें /

मैं तुमको आज़ादी दूँगा , खून मुझे दो हिन्दोस्तानी  ,
आजादी की अज़ब कहानी , कहतीं प्यारी दादी-नानी /

तुर्कों , गोरों ,चोर- लुटेरों से बढ़कर भारत के काले ,
परदेशी भर रहे खजाने, काले मुख करते घोटाले  /

खून पी रहे , अब ये नेता , बलिदानों की आन न जानी /
आजादी की अज़ब कहानी , कहतीं प्यारी दादी-नानी /

चरखा ! चला , बनाकर खादी , बापू जो लाये आज़ादी ,
खादीधारी , टोपी  वालों  ने  भारत में  आग  लगा दी  /

सत्ताधारी  दशाननों  ने , सत्य भुला दी वह कुर्बानी /
आजादी की अज़ब कहानी , कहतीं प्यारी दादी-नानी /

राजनीति के रावण देखो , लगा रहे ज़न्नत में सीढ़ी ,
खूनी क्रान्ति , करेगी आज़ादी की , आने वाली पीढ़ी /

बलिदानी गाथाएँ , आज़ादी की -होंगी मात्र निशानी  /

आजादी की अज़ब कहानी , कहतीं प्यारी दादी-नानी /










Wednesday, September 21, 2011

वंशी को दे न ताने

वंशी को  दे  न  ताने ,  मृदुरागिनी  है वंशी  /
क्यों बांस वन का माने, सुरवादिनी है , वंशी  

परदेश से  न आयी , वृज में गयी बनायी ,
बींधी  गयी  है  पहले , पीछे  गयी बजायी , 
पीड़ा न कोई जाने , स्वर स्वामिनी है वंशी /
वंशी को  दे  न  ताने ,  मृदुरागिनी  है वंशी  /


धुन सुन के  बत्स- गैया , सँग  नाचता  कन्हैया 
मधुवन सुमन भी झूमें , तरु करते ता- ता थैया 
स्वर ऐसे मृदु सुहाने , अनुगामिनी है वंशी  /
वंशी को  दे  न  ताने ,  मृदुरागिनी  है वंशी  /


वृज रज घरों में वंशी , नारी नरों में वंशी 
अधरों के तट लिपट कर , बजती सुरों में वंशी 
दे श्याम धुन बजाने , सहवासिनी है  वंशी /
 वंशी को  दे  न  ताने ,  मृदुरागिनी  है वंशी  /



Wednesday, September 14, 2011

वन्दन करते हम भाषा का

वन्दन  करते  हम  भाषा  का  ,  माथे   दे  रोली  हिन्दी की  /
अपनी  संस्कृति की स्वर गंगा , जन भाषा बोली  हिन्दी की  /
वन्दन  करते हम भाषा का -------------------------------1

 दासी न रही दरबारों  की,  गलियों  कूचों  की  पटरानी ,
हर परदेशी  चाहे , हिन्दी आये, हम कर लें  , अगवानी  ,
पानी-  पानी हो , हर भाषा ,हिन्दी सम्मुख भरती पानी ,
हिन्दी से जन्मा,हिन्दी , हिन्दी , हिन्दी हर हिंदुस्थानी ,

हिन्दी सा धन जब हाथों में, क्यों मुँह ताकें किस भाषा का ?,
ले लूट न कोई टूट- टूट , फिर    अपनी   डोली  हिन्दी   की  /
वन्दन  करते हम भाषा का ------------------------------१

पर धन !क्यों देखें टुकुर - टुकुर अंजलि में अपनी रत्नाकर ,
दिनकर  का तेज, बिहारी की,  गागर ही में जब हो सागर  ,
हिन्दी  की  मूर्ति  महादेवी , हिन्दी  का दृष्टा ,  नर  नागर  ,
ममतामय प्यार दुलार भरा इस हिन्दी का आखर आखर ,

यह तुलसी का  नैवेद्य मधुर,  रसखान सूर का तुतलापन ,
भारती! प्रसाद  प्रमाद भरा,  मत करो ठिठोली हिन्दी की  /
वन्दन  करते हम भाषा  का  ---------------------------1
जगनिक की जगमग ज्योति जले, दे ओज! चन्द का छन्द- छन्द,
अधरों   पर , राग कबीर भरे, आनन्  ! पर  उमड़े,  ,    घनानन्द !
हर अंग, , निराला   भूषण   है , व्यंजन - व्यंजन     आनंदकंद  ,
अपनी  भाषा  की  मुट्ठी में, हर रस का,  अभिनव  कोष  बन्द  ,

माथे  पर बिंदी ,  भारतेन्दु ,  ऊपर  से  कड़वी   लगे  नीम - 
तल  में,  रहीम रस झीम- झीम , रत्नों की झोली हिन्दी  की  /
   
विज्ञानमयी  भाषा स्वरलिपि , यह नहीं, व्यर्थ की काँव-काँव  ,
अंगुली थामे इस भाषा की, हम ,  चले प्रगति पथ,  पाँव -पाँव  ,
इतनी मधुरा सुगम्य सुफला , सुखदायी   इसकी छाँव  -छाँव ,
किसको  अभिमान नहीं, कविता , कावेरी  बहती,  गाँव -गाँव  ,

उत्तर -दक्षिण  पूरब  पश्चिम  जगती  तल का कोना -कोना -
हिन्दी को चाहे गूँज        रही , हर घर में बोली  हिन्दी  की  / 

हिन्दी अपनी भारत भाषा , अपनी पहचान यही   हिन्दी , 
हिन्दी भारत का यश गौरव , गरिमा का गान यही हिन्दी ,
तम से नव ज्योतिर्मय पथ पर अभिनव सोपान यही हिन्दी,
हर मजहब से निर्बन्ध  बड़ी , आरती   अजान  यही  हिन्दी ,

विद्यालय की आधारशिला  ,यह न्यायालय की सुगम  रीति -
उर्दू  भी सौतन  नहीं  वरन  भगिनी  मुँहबोली   हिन्दी  की   /
वन्दन   करते    हम   भाषा    का  ------------------------//


Tuesday, September 13, 2011

हिन्दी हमारी माँ

वषों मनाते हैं रहे , स्वाधीन हम , हिन्दी दिवस  ! 
वैषम्य,कैसा रात दिन होती रही , हिन्दी विवश  !

वह आंग्लभाषा आवरण , हम त्याग भी पाए  कहाँ ?
हिन्दी रही वक्तव्य में , उठ जाग भी पाए कहाँ ?

चौपाइयों की सोरठों , दोहों की छप्पय , छंद की /
लालित्य निधि खोती रही रस भाव के आनंद की /

जुटती रही लुटती रही , भाषा की हर विश्वास निधि /
होती रही वलिदान दिन - दिन स्वार्थ पंथ विकास निधि /

रस का सुयश पल पल विवश , सच नित्य रत्नाकर लुटा /
हिंदी रही लुटती सदा , हिन्दी का हर आखर लुटा /

हिन्दी नहीं लुटती रही , लुटते रहे हैं  आप  हम ,
क्या सत्य अंगरेजी   में हम  गायेंगे  वन्दे  मातरम्  /

हम चन्द वरदायी बनें ,  कवि राष्ट्र रखवाले रहें  /
भूषण , निराला  वेश हो,दिनकर   सुयश पाले रहें /

हिन्दी हमारी आन भारत शान रस की संहिता  ,                                                              
अब भी रहे सोते जलेगी राष्ट्रभाषा की चिता  /

हिन्दी!हमारी माँ!कहो,माँ जैसा प्यारा कौन है ?
हिन्दी की,ऐसी दुर्दशा पर,राष्ट्र  सारा  मौन है  /

हो युद्ध , हिन्दी ! भारती के भाल की बिंदी रहे /
निष्प्राण जब तक हम न हों , सच प्राणप्रिय हिन्दी रहे  /

सच दीन सी  पथ देखती , जल , मीन सी माँ भारती /
हिन्दी  पुरोधा कब करें , हिन्दी में भाषा  आरती //

Saturday, September 10, 2011

मुक्तक मंजरी - 2

वहशी  हुए ,  बढ़े  बड़े   नागों  के  हौसले ,
अब पस्त करें ,  दहशती रागों के हौसले /
तूफानों ! तबाही के, हकीकत ये जान लो ,
टूटेंगे  नहीं , जलते  चिरागों  के  हौसले  /

दहशत , का कौन फिर  गया बारूद बिछाके ,
वहशी ने रख दिया ये वतन फिर से हिलाके ,
ये खेल खेलते  हैं  जो भी आग के छुपकर -
वे  नरपिशाच ! करते  कराते  हैं  धमाके  /


वहशी -  दरिंदों के ,  कलेजे फाड़ दें - उठें ,
अब  वक्त  आया ,  बाघ से दहाड़  दें - उठें
नफ़रत की आग घर में लगाते जो सिरफिरे
करते  जो छाती पर , तिरंगा गाड़ दें - उठें

बम के जवाब    में उठें जागें कहें,  बम- बम
सब मिलके देखें देशद्रोहियों में कितना दम
चल जंग हो , दहशत से पुकारे  ये  तिरंगा
जय हिंद ! जय हे  भारत,  जय  वन्दे मातरम्

एक विकल्प  एक  संकल्प  कायाकल्प  के लिए इतना और
--------------------------------------------------------

कर्ज़ ! माता मात्रभूमि का , चुकाना ठान  लें /
लूटना क्या ,  राष्ट्र पर जीवन लुटाना ठान लें /
पाँव तो आगे बढायें ,स्वार्थ पल भर भूल कर ,
फिर तिरंगा ! हाथ में मन से उठाना ठान लें /

Thursday, September 8, 2011

वत्स ! नेता , भारत में भगवान है , /

विनती सुन प्रकट हुए भगवान् 
वत्स माँग मनचाहा वरदान 
वत्स अल्पायु में कठिन तपस्या 
बोल क्या है समस्या ?
किंकर्तव्यविमूढ़ ! दयानिधान  !
समस्या ? हिन्दुस्तान - हुक्मरान /
घुट घुट जिन्दगी जीते इनसान,
राज करते ये काले , काली करतूतों वाले ,
काली चालों , करोड़ों घोटालों वाले ,
सोना चाँदी उगलती संसद में-
 अंगद जैसे जमाये पाँव 
वर्षों से केवल कौओं सी कांव-कांव ,
मौज - मस्ती में कुम्भकर्णी खर्राटे  मार रहे हैं नींद में ,
 आम आदमी ! बेमौत मर रहा है ,दीवाली होली कभी ईद में
हर ओर आग ही आग , दिन - रात खूनी फाग ,
नारायण - नारायण , नारी -नर जैसे भाजी -साग ,
 और तरक्की भी ऐसी ,असली जामे में नकली नोट ,
हुक्मरानों की नयी नयी गोट ,
सब पर  मर्मबेधी चोट ,
दे रहे अवर्णनीय विस्फोट !
नाथ ! ये आतंक ,ये दंगे ,
मर रहे भूंखे प्यासे नंगे ,
फिर भी जज्बा-ओ -जोश में ,
आक्रोश में लहराते हैं  तिरंगे ,
प्रभो ! आज़ादी में गुलामी के मंजर ,
 अपनों पर अपनों के खंजर , 
आम आदमी अस्थि पंजर ,
धरती हो रही बंजर ,
अन्तर्यामी ! यह कैसा खेल तमाशा है ?
आदमी, आदमी के खून का प्यासा है /
अपनी विख्यात पौराणिक मुद्रा में मुस्कुराए भगवान् 
उठ जाग ! नादान ,
यह आज़ाद राजनीति की रक्काशा है ,
वत्स राजनीति  राज  नीति है-
जिसमें राष्ट्र -राष्ट्रभक्ति दूध - बताशा है ,
वत्स वैसे तो सभी को हमने स्वयं गढ़ा -तराशा है /
परन्तु  नेता  की काया में फ़र्क ज़रा सा है /
नरों -नारियों की यह छवि है ऐसी विराट ,
अपनी पर आये , सच खड़ी कर दे नारायण की भी  खाट ,
जय हो प्रभो ! खुल गए बंद चक्षु  ज्ञान  कपाट /
फिर भी एक सवाल मचा रहा है धमाल
किसी ब्लास्ट , फास्ट में -
 कभी कोई राजनीतिज्ञ नहीं मरा ,क्या खूब है कमाल /
जगदीश्वर ! कहें कारण 
वत्स, इस शंका का है निवारण 
नेता !दंगाइयों , आतंकवादियों का बाप है ,
वत्स , नेता पर उंगली उठाना महापाप है /
सच्चा जनार्दन जनता का आका है ,
भोले भक्त ,शहर - शहर -
 नेता के बल पर ही  विस्फोट  हैं , धमाका है /
वत्स , नेता वतन की आँख का नूर -ए- चश्म  है ,
दशानन ,कंस ,का सदियों  पुराना  जीवाश्म है /
नेता के प्रारब्ध में स्वप्रवाहित  अमरता है ,
नेता के आगे नारायण भी पानी भरता  है ,
वत्स ! सच्चाई कहते अंतर्मन डरता है ,
 भाग्य ही रूठा हो तो और बात है -
वरना  किसी भी विस्फोट में नेता नहीं मरता है /
वत्स ! नेता , भारत में भगवान है , /
एक अकेला नेता ही समूचा हिन्दुस्तान है
सुनते ही भक्त की आँखों से झरने लगा निर्झर  ,     
अवसर उचित देख अंतर्ध्यान हुए जगदीश्वर /
भक्त के नयन खुले ,भयभीत था रोम - रोम
हतप्रभ , नयन मूँद भजने लगा हरि ॐ  हरि ॐ हरि ॐ .'

Wednesday, September 7, 2011

-बन जाऊँगा-

तुम ! संवरती रहीं  बेखबर  सारा  दिन ,
 लट कसम , सुरमई शाम बन जाऊँगा /
आँखों में ,  यूँ  ही  सागर छलकते  रहे,
 मयकशी  की कसम,जाम बन जाऊँगा  /
सारी   दीवानगी  की  , हदें - सरहदें   -
 बंदिशें तोड़कर,जान- ए- मन एक दिन -
राम बन जाऊँगा, तुम हो सीता अगर ,
राधिका हो प्रिये  , श्याम बन जाऊँगा //


Sunday, September 4, 2011

बज उठे रण के नगाड़े ------

वर्ग सब आधे- अधूरे , छेड़ बैठे तानपूरे 
अब न भ्रष्टाचार धुन पर, नाचेंगे बनकर जमूरे 
लूटने देंगे न, भारत देश , धन अब दिन- दहाड़े 
गूंजते विद्रोह के स्वर ,बज उठे रण के नगाड़े /

देख लो ! जनतंत्र जागा , खुल गयीं अब बंद आँखें 
अब निरंकुश शासकों के, घर की टूटेंगी सलाखें 
देखना ये भूखे- प्यासे , तोड़ देंगे घर- किवाड़े 
बज उठे रण के नगाड़े ------

नष्ट कर डाला हिमालय , कर रहे दूषित ये गंगा 
धन के भूखे धूर्त , रख दें मत कहीं गिरवी तिरंगा 
सर्प डसते, और ओझा बिच्छुओं का जहर झाड़े /
बज उठे रण के नगाड़े ------

बहुत भरमाया वतन को , और भरमाना न आगे 
पाप कर, पापी किसी को, और ठहराना न आगे
वरना ! संसद से सड़क तक , ताल ठोकेंगे अखाड़े /
बज उठे रण के नगाड़े ------

अपनी कथनी- करनी का, हर दंड खुद भरना पड़ेगा
पाप सब, स्वीकार करना भी, स्वतः मरना पड़ेगा
अब लताड़ा यदि  वृथा , जन- गण भुला देगा पहाड़े /
बज उठे रण के नगाड़े ------

राह पर आओ , समय है , सच सुनो - ओ बेशरम 
जागरण ! जन - गण उठा ध्वज- यन्त्र वन्दे मातरम 
याद रखना ! अब करोड़ों लोग अपना लक्ष्य ताड़े  /
बज उठे रण के नगाड़े ------

सत्य यह भी, युद्ध अपनों से - नहीं जाता लड़ा 
किन्तु कोई देश, धरती माँ से कब होता बड़ा ?
मूर्ख ! जो स्तम्भ यश के, राष्ट्र के खुद ही उखाड़े /
बज उठे रण के नगाड़े ,बज उठे रण के नगाड़े   /

Friday, August 26, 2011

मुक्तक मंजरी

                        (१)
वंदन  में ,  देश- दीप  जलाने लगे  हैं लोग ,
नटवर को अँगुलियों में नचाने लगे हैं लोग ,
दुर्योधनों ,  दुशासनों  की  खैर  अब   कहाँ  ?
ध्वज-चक्र ,कृष्ण जैसा उठाने लगे हैं लोग  !

                       (२)
उठ ! जाग , चले  भारतीय  तान मुट्ठियाँ ,
कुछ छोटी, बड़ी और कुछ जवान मुट्ठियाँ ,
जय हिंद के नारों की गूँज धरती, गगन में ,
करती हैं , वन्दे मातरम का गान मुट्ठियाँ !

                      (३)
ज्वालामुखी से फूट के  चिंगारियाँ  उठीं ,
घोटालों के विरोध में किलकारियाँ उठीं ,
सिसकारियाँ उठीं हैं अनाचार द्वार पर ,
बच्चे,  बड़े,  जवान उठे,  नारियाँ  उठीं !

                   (४)
जलने  न  देंगे  यश  का   बाग़ ,वन्देमातरम् ,
अधरों में  सबके  एक   राग ,  वन्देमातरम् .
खेलेंगे   फाग  खून  से ,   इतने   जुनून  से ,
जन क्रान्ति की भड़की है आग .वन्दे मातरम् !

                 (५)
अनशन व्यसन नहीं  स्वयं कृपाण  ऐ वतन !
दशशीश  दहन   हेतु   राम  वाण     ऐ वतन !  
लड़ते हैं  जंग  कैसे  , ये  दुनियाँ को खबर है
व्रत , एक  है  संकल्प  , देंगे  प्राण  ऐ  वतन !

Monday, August 22, 2011

शीश भृष्ट दशाननों के

व्यर्थ अब सारे दिलासे , उठ खड़े जब भूंखे - प्यासे
कैसे मन मोहन बनेंगे ऐसे पोलिटिकल तमाशे 
खुल गए आक्रोश के गढ़ ; खुल गए सब बंद ताले 
लूट पायेंगे न काले लोग उठ जागे  जियाले 
हाथ भृष्टाचार के धन  कीर्ति की बरबादियाँ 
राष्ट्र में लाईं गुलामी कैसी यह आजादियाँ 
मुक्त भृष्टाचार का डंका ये  भारत देश में
 राक्षसों की है अजब लंका ये भारत देश में

अस्मिता के राष्ट्र के वह दुर्ग अब धंसने  लगे हैं 
कैसी आजादी हमें अपने स्वयं डसने लगे हैं 
लुट गए सपने सभी के , हो रहा हर और कृन्दन 
सत्य ! करना ही पडेगा , फिर नया अब सिन्धु मंथन 
जन- जनार्दन बीच जब बढ़ती गयीं ये खाईयाँ
निर्बलों , विकलों ने ली विद्रोह की अंगड़ाइयां
पर्व जब राष्ट्रीय ! गूँजें गीत कैसे शान्ति के
भ्रान्ति के परदे उठे फिर खुल गए पथ क्रान्ति के


आँख खोलो देख लो नव युद्ध की रणभेरियाँ
 नारियाँ नर बालकों वृद्धों की उठतीं फेरियाँ
गा रहे सब , चाहती वलिदान भारत- भारती 
मांगती बापू का हिन्दुस्तान भारत - भारती
कह रहे, मिल, क्रान्ति पथ पर पग बढ़ाने का समय
शीश भ्रष्ट दशाननों के अब चढ़ाने का समय 
व्रत , यही संकल्प ले मन में लगन यह ठानकर 
लीडरों, संभालो चला जन- जन तिरंगे तान कर 

गर्जना अभिमन्यु की फिर , व्यूह के हर द्वार से 
मुक्त हो भारत हमारा , दैत्य भ्रष्टाचार से
राष्ट्र ! भ्रष्टाचार में बढ़कर विषैला हो गया 
दिव्य आँचल फिर से भारत माँ का मैला हो गया
नाम दे कोई भले यह व्यक्ति का उन्माद  है 
सत्य ! नव जन जागरण की यह सुदृढ़ बुनियाद है
मिल गए , पीड़ा में जलते पंछियों को पंख फिर
देश , भ्रष्टाचार त्यागे , बज उठे ये शंख फिर

पहरुए हो राष्ट्र के, अब भी संभलना सीख लो 
दर्द नागरिकों का, जीवन में निगलना सीख लो
धैर्य की, ऐश्वर्य के घर से, परीक्षाएं न लो
घृणित ! आजादी के कर्मों की समीक्षाएं न लो
वरना , वह दिन आयेगा , घर के न होगे घाट के
भूखे- प्यासे , नंगे रख देंगे विवशतः काट के
कर्म की कुत्सित कथाएं. लिख न पायेगी कलम 
बच्चा - बच्चा, गा रहा जय हिंद , वन्देमातरम    

Wednesday, August 10, 2011

बच्चों के संग बच्चे बनकर!

बड़े हुए! पल चार बिताओ बच्चों  के संग बच्चे बनकर!
झूठ बोलने की हद कर दी कभी दिखाओ सच्चे बनकर.

बच्चा! बचपन में मिटटी का, होता सत्य, घड़ा है कच्चा 
चाहे जो रंग रूप निखारो, झूठा या कि बनाओ सच्चा 
मार पीट से बच्चे केवल क्रोधी, जिद्दी हो जाते हैं 
वही सीखते काम नित्य जो बड़े स्वयं कर दिखलाते हैं.

बड़े नकलची नटखट होते काम गलत मत कर दिखलाना
वरना ये हठवादी बनते काम  सदा करते मनमाना 
लालन पालन लाड प्यार से करना जितना किन्तु ज़रूरी 
पढने लिखने जब जाएँ दो दंड अगर ऐसी मजबूरी .

बच्चे तो बच्चे हैं बढ़कर, बड़े एक दिन हो जायेंगे 
इनमें सुमन सुगंध भरे यदि , सदा बड़ों के गुण गायेंगे 
बढ़ते जायेंगे ये जितना, होंगे आज्ञाकारी बच्चे
सदगुण उपजाओगे यदि तो होंगे पर उपकारी बच्चे .

कल के भारत का भविष्य बच्चे हर लेंगे क्लेश हमारा 
बच्चे बड़े समर्थ बने यदि संवरेगा यह देश हमारा 
अच्छे हों बच्चे जीवन में स्वयं दिखाओ बच्चे बनकर 
बड़े हुए पल चार बिताओ बच्चों के संग बच्चे बनकर.




Monday, August 1, 2011

वो प्यार भी करते हैं तो?

वो प्यार भी करते हैं तो, छुपकर नक़ाब से.
इक़रार भी करते हैं तो छुपकर नक़ाब से.
               उस रोज़ नज़र यार वो किस्मत से आ गए,
              सज कर संवर कर खुदा की कसम छत पर आ गए, 
दीदार भी करते हैं तो छुपकर नक़ाब से 
वो प्यार भी करते हैं तो, छुपकर नक़ाब से. 
               आहों के घर से आये वो राहों में निकलकर,
               बाहों के दायरे से गए ऐसे फिसलकर .
ऐतबार भी करते हैं तो छुपकर नक़ाब से 
वो प्यार भी करते हैं तो, छुपकर नक़ाब से.
             बेचैन शब-ओ-रोज़ करें ऐसे नज़ारे ,
             तन्हाइयों में वक्त कोई कैसे गुज़ारे ,
इज़हार भी करते हैं तो छुपकर नक़ाब से 
वो प्यार भी करते हैं तो छुपकर नक़ाब से.
            खुशुबू ! बदन की ऐसी हवाओं में भरी है 
           मस्ती! वो जानलेवा अदाओं में भरी है 
वो वार भी करते हैं तो छुपकर नक़ाब से
इक़रार भी करते हैं तो छुपकर नक़ाब से.
          दीवाना संग-ए-दिल  भी कोई हो, बहक उठे, 
          ऐसा है हुस्न हाय की गुलशन महक उठे,
गुलज़ार भी करते हैं तो छुपकर नक़ाब से 
वो प्यार भी करते हैं तो, छुपकर नक़ाब से.

वंदन हे उद्धव प्यारे!

वंदन हे उद्धव प्यारे आये प्रिय  प्रेम नगरिया!
तुम ज्ञान योग के मारे मेरो योगेश्वर सांवरिया .
           हम सब नित प्रेम दीवानी 
           जग के धन पानी-पानी
           मिटटी के माधव हो तुम
           कब पीर प्रेम की जानी
साँसों को श्याम सँवारे मन श्याम की है बांसुरिया .
तुम ज्ञान योग के मारे मेरो योगेश्वर सांवरिया .
          कभी पनघट पे आ जाये 
          कभी वंशी तान सुनाये 
          वन में मन डर जाऊं 
          वन से घर तक पहुंचाए.
वो पग-पग साथ हमारे चलता नित प्रेम डगरिया.
तुम ज्ञान योग के मारे मेरो योगेश्वर सांवरिया .
         तुम लाये जिसकी पाती
         कब दूर है उनकी थाती 
         घर, घर का उजाला मोहन
         वो दिया तो हम बाती
प्रियतम की छवि अंधियारे बीते ऐसे ही उमरिया.
तुम ज्ञान योग के मारे मेरो योगेश्वर सांवरिया .
वंदन हे उद्धव प्यारे .........

Wednesday, July 20, 2011

ऐसा क्यों होता है दादी ?

माँ गढ़ती बेटों का तन-मन
न्यौछावर हो पाले बचपन
दादी मन में बस यह उलझन
बेटे, क्यों हो जाते दुश्मन.

घर-भर की फ़रियाद सुने जो
क्यों हो वह दादी फरियादी
ऐसा क्यों होता है दादी ?

बेटी-बेटों के दुःख ले ले
हंसकर साथ सभी के खेले
फिर क्यों ऐसे अजब झमेले
रहती सबसे दूर अकेले

माँ, बेटों, बहुओं के घर में
किसने यह दीवार उठा दी
ऐसा क्यों होता है दादी?

हर कोई मुझ पर झुंझलाए
मारे-पीटे आँख दिखाए
माँ, बेटों, बहुओं के झगड़े
ये बच्चा कैसे सुलझाये ?

हो जाते क्यों लाल पराये
दादी बस होते ही शादी
ऐसा क्यों होता है दादी ?

ताने सुने तोतले तेरे
प्यारे तुम और बेटे मेरे
पापा मम्मी से बसते हैं
घर में ये खुशियों के डेरे

बड़ा सयाना जाने कैसे
किसने है ऐसी शिक्षा दी
ऐसा क्यों होता है दादी ?

Sunday, July 17, 2011

उठो और जागो ,ऐ बेटों

वंदन करते देव दनुज नर एक विधाता कृति अति सुन्दर
नर-नारी के लिए दिव्य वर गर्भ पला जिसके जगदीश्वर .
वेद  पुराण उपनिषद अग-जग, महिमा जिसकी यहाँ वहां.
उठो और जागो ,ऐ बेटों , मान तो बस होती है माँ.

पिता हमारा परम पिता, शिशु बीज गर्भ में जो बोये .
माता मुदित संवार कोख में, नौ दस मास जिसे ढोए.
जन्म हमें दे, दुखी न हो शिशु, माँ जागे जब हम सोये .
ऐसी माँ के तिरस्कार के, पाप कहाँ जाते धोए.


माँ से बढ़कर स्वर्ग न कोई , माँ की कहीं नहीं उपमा.
उठो और जागो ऐ बेटों , माँ तो बस होती है माँ .

मल-मल निर्मल कर तन मन दे लाल ललाट दिठौना माँ .
धरती काँटों पर सोये, दे आँचल हमें बिछौना माँ .
लुट-लुट, घुट-घुट स्वयम हमें दे, भोजन और खिलौना माँ .
रक्त पिलाती दूध पिलाकर, हमको करे सलोना माँ.

सुर मुनि मानव दानव कहते माँ जैसी निधि और कहाँ .
उठो और जागो ऐ बेटों , माँ तो बस होती है माँ .

वृक्ष विनय

वर दो हे प्रभु! वृक्ष बनूँ  जो स्वयं न खाते फूल और फल.
हरे-भरे जग जीवन हित में, जड़ से सीमित पाऊँ जल .

जल जीवन धन जन, वन, तरु का , जल से शक्ति समर्थ रहे.
जन मन सा जड़ रहूँ न जड़ हो, जल न बूँद भर व्यर्थ बहे.

श्रान्ति मिटाकर शांति विश्व को दूं पल्लवी हवाओं से .
विविध रूप में काम नित्य आऊँ प्रभु निज शाखाओं से .

परहित में लथ-पथ हो पथ पर, तन मिट जाए कद काठी .
अंग कटें बन जाऊं प्रभु, अक्षम नारी-नर की लाठी.

भय न रंच किंचित प्रपंच का, लुट-लुट दिन-दिन रंक बनूँ .
अंक भरूँ शिशुवत, ममत्व से, जन-जन का पर्यंक बनूँ.

धरती का विष पान करूँ नित, प्राण वायु दूं दान प्रभो.
वृक्ष बनूँ , जग मानवता पर हो जाऊं बलिदान प्रभो.  

Sunday, July 10, 2011

रत्नावली

विश्व वंचित ही रहता महाग्रंथ से
               कामिनी यदि नहीं होती रत्नावली.
लाल हुलसी का तुलसी न बनता कभी
               भामिनी यदि नहीं होती रत्नावली .
संत के कर्म के पंथ पर रहता तम
               दामिनी यदि नहीं होती रत्नावली .
पति को सदगति न मिलती कभी स्वप्न में,
               स्वामिनी यदि नहीं होती रत्नावली.

विद्वता काल के गाल जाती, अगर
               देती यौवन न बलिदान , रत्नावली.
काम का केतु ग्रास हेतु को लेता सच
              करती शर यदि न संधान रत्नावली.
तन है नश्वर न स्वीकारते वर्ण स्वर
              सत्य देती न साद ज्ञान रत्नावली.
वर सी विदुषी श्री तुलसी की दिग्दर्शिका
              संत तुलसी की पहचान रत्नावली .

वंदना योग्य युग-युग सुकृति  मानसी
              विश्व कवि का प्रथम छंद रत्नावली.
वन सुमन से खिले रह निराहार भी
              दिव्य आहार नवकंद रत्नावली .
सत्य से ही परे रहते तुलसी अरे
               संत जीवन का आनंद रत्नावली .
यह सुधा रस पिलाते न तुलसी सुकवि
               मंजरी रस की मकरंद रत्नावली.

Tuesday, July 5, 2011

// व्यक्ति से व्यक्तित्व के कृतित्व पथ पर //

वर्ष, माह, दिवस, रात, संध्या, प्रात 
गतिमान बीतते गए .
व्यक्ति से व्यक्तित्व कोष भरते गए और रीतते गए .
कर्मपथ पर कर्तव्यरत कभी हारते कभी जीतते गए .
जीत जाना दंभ है .
हारना जय का सुदृढ़ स्तम्भ है .
व्यक्ति ! जीतना चाहता है , मात्र जीतना ,
त्यागना नहीं चाहता दंभ ताल.
सत्य ! सत्य है -
सुख में सुख नहीं , दुःख ही सच्चा सुख है,
दुःख- सुख के संग खेलता धुप- छाँव से खेल ,
कभी रुक- रुक , कभी छुक-छुक बढ़ती  रहती जीवन रेल ,
मरता- जीता रहा नित्य ,
सृजित भी कब कर सका साहित्य  ?
मन जीवन की विकृति  को मिल गयी कृति छवि ,
परिचित- अपरिचित कहने लगे कवि ,
क्यों विचारें ? कवि होना भी कब होता सरल ,
कवि वह जो परहित में हँस कर पान कर ले गरल ,
कवि वह जिसे ज्ञात हो शब्दार्थ ,
जो रचे, उसे कर भी सके चरितार्थ ,
स्वार्थ से परे कर सके परमार्थ ,
वही कवि की छवि यथार्थ .
विकास पथ पर पर चलते, जलाते, स्वयं को छलते,
गिरते-संभलते, मान- अपमान के घूँट निगलते,
ममत्व से तत्त्व के महत्व ,
कभी सत्व, कभी स्वत्व ,
चिंतन में वेदना के भाव ,
जल के ठहराव पर उतार कागज़ की नाव -
चाव से वीर, ओज , श्रृंगार,
रस, छंद, अलंकार भर नहीं पाया ,
वही रचता गया जो रच पाया ,
रचयिता व्यक्ति नहीं शक्ति होती है ,
जो काव्यगत विशेषताएं पिरोती है-
अन्यथा कैसे रच सके कोई नारी या पुरुष 
इतना रम्य ,दिव्य, अकल्पनीय रसाज इन्द्रधनुष ,
कि सृजन उपास्य हो ,
प्रभु से प्रार्थना है-
विकास पथ पर अब न नैराश्य हो ,
सृजन में प्रधान भाव दास्य हो ,
मन में न टिक सके दंभ .
सृजन का यही हो, काव्यात्मक शुभारम्भ .
   

Sunday, July 3, 2011

पितृ देवो भव

वाणी, कर्म, मन से वन्दनीय विश्व पितृ दिवस ,
फादर्स डे का विश्वव्यापी सुयश ,
अनस्तित्व का आखेट हो न हो विवश ,
तभी तो सार्थक हो सकेगा -
विश्व का फादर्स डे, भारतीय पितृ दिवस /
कब! पुनर्नवा पूरित होगी , श्रवण सेवा परम्परा ?
कब ! जनेगी ऐसे पुत्र - पुत्रियाँ यह रत्नधरा ?
कब पा सकेगा लालन- पालन ?
वह श्री परशुरामी पित्राज्ञानुपालन ?
कब यथार्थ में होगा भीष्म व्रत परिचालन ,
कब स्वार्थ में लिप्त वर्तमान -
करेगा पितृ पदातीत पर वलिदान, सेवा, निर्वहन 
कब स्वयं भी पिता हो पायेंगे जनक,
अभिशप्त कब तक शीश पर ढोयेंगे, पिता होने का भार  ?
कब होगा पितृ उद्धार   ?
की वर्ष - प्रतिवर्ष हो  सोल्लास , पितृ दिवस !
अस्तित्व के लिए कहीं पिता न हो विवश ,
पिता भी करे दायित्व निर्वाह ,
पिता की स्नेह सरिता का प्रवाह -
कभी अवरुद्ध न हो  ,
कोई भले शत- प्रतिशत शुद्ध न हो ,
किन्तु यशोधरा तज पुनः  कोई बुद्ध न हो ,
संतान पिता को , पिता संतान रखे संवार ,
पुत्र - पुत्रियाँ कहें पुकार बार- बार ,
जीवन ! नित्य अभिनव  !
पितृ देवो भव ! पितृ देवो भव  !   

Tuesday, June 28, 2011

व्यर्थ न हो जल की एक बूँद

व्यर्थ न होवे , जल की एक भी  बूँद !
यदि अब भी रहे स्थितिप्रज्ञ , धारण किये मौन ,
कल ! जल , देगा भी कौन ?
वृक्ष विलुप्त हो रहे हैं ,
जल श्रोत सुप्त हो रहे हैं ,
पहले लोग घड़े में जल लाते थे ,
पीते, पिलाते, अघाते थे ,
जल की एक बूँद भी, अकारण
मिट्टी में नहीं मिलाते थे /
बड़े- बूढ़े , टोकते, रोकते ,
जल नहीं, जीवन है , व्यर्थ न बहे ,
अब वर्तमान में कौन कहे ?
जल जीवन-वृक्ष ! जल जीवन धन !
जल का तल ! खो रहा धरातल /

नहीं रहे पनघट - खो गए रहट ,
निष्फल, निर्जल, ये इंडिया मार्का नल ,
मल की कहानी है /
नल का नहीं, नर का मरा पानी है /
अब सरोवरों के निकट पक्षी चहचहाते नहीं,
हरे पेड़- पौधे जल के अभाव में लहलहाते नहीं ,
अब कहाँ राहों में वृक्ष से बंधे वे नीड़,
अब तो भवनों का विस्तार, वाहनों की भीड़ ,
वृक्ष ! जल ! संरक्षण ही हल है समस्या का ,
अन्यथा , कोई अर्थ कहाँ, त्याग और तपस्या का ?
वृक्ष काटना विवशता हो तो -
एक के बदले चार रोपें ,
वन्दे मातरम , गाने वाले-
वसुंधरा वक्ष में छुरा न घोपें ,
वरना जल शून्य !जल- जल , जल 
जीवन हो ही जाएगा निष्फल ,
आज नहीं तो कल ,
अस्तु, व्यर्थ न होवे एक बूँद भी जल /  

Monday, June 27, 2011

{ सुनो सत्यवान सुनो }

  सुनो सत्यवान सुनो !
पत्नीवृती पंथ तुम भी चुनो ,
वर के रूप में इस सावित्री के माता- पिता ने तुम्हें चुना ,
क्षमता से बढ़- चढ़ दान- उपहार दिया कई गुना ,
पर अपनी देहरी पर तुमने अर्थ-लिप्सा का ऐसा जाल बुना ,
इस स्त्री ने लज्जा से सदैव अपना सर धुना /
कब पता था -
लकड़ी काटकर पलता सत्यवान का प्रतीक इन्सान ,
यथार्थ में है इतना हैवान ,
अपनी ही पत्नी का गला काटने का अभ्यासी है ,
धर्म के माता- पिता की मनोवृत्ति प्यासी है ,
बहू घर की लक्ष्मी नहीं-
पुत्र सत्यवान के चरणों की दासी है ,
सत्यवान ! नश्वर धन तुम्हारा काबा- काशी है /

किसे पता था , तुम्हारे इतने कुटीर धंधे हैं ,
आँखें होते हुए केवल तुम ही नहीं -
तुम्हारे माता- पिता भी अंधे हैं /
यमराज से प्राण लाने की भी वह अभिलाषा ,
संदर्भित कर गयी नवीन परिभाषा ,
तुम, सावित्री के प्राण प्यासे निकले ,
सावित्री ने ग्लानी- संत्रास के घूँट निगले ,
होली की भाँति सावित्री जलाई ,
किसने पतिवृता पत्नी दहन की रीति चलाई ?

अब विवश सावित्री भी आन पर आयी ,
चुकाने लगी पित्र - ऋण की पायी - पायी,
न जाने कब तक फैलती तुम्हारी लोलुपता की बेल,
तुम्हारे लिए यदि सावित्री है खेल,
तो सच्चाई सुनो, फिर वन्दीग्रह में सिर धुनों,
सावित्री यमराज से -
सत्यवान के प्राण ला भी सकती है ,
और अकारण प्राणों पर संकट हो ,
पति सत्यवान के मन में छल- कपट हो ,
तो पति के प्राणों पर संकट धा भी सकती है /

सावित्री , न कल भयभीत थी, न आज भयभीत है ,
सत्यवान रहो, तो सावित्री का स्वाभिमान ,
अन्यथा करोगे विषपान ,
यही सावित्री का वर्त्तमान,भविष्य और अतीत है ,
यह पुरुषत्व की नहीं , नारीत्व की जीत है /
      

{ सुनो दुष्यंत सुनो }

वर्चस्व के सिंहासन पर आरूढ़ स्वार्थी दुष्यंत ,
शाकुंतल शील पर तुषार वार कर लील गए वसंत ?
आज सत्वधारी संत हो गए /
साथी दिग- दिगंत सो गए /
स्मरण करो वह सदाचरण -
जब वन सौंदर्य से दूषित हुआ तुम्हारा अंतःकरण  /
जब शाकुंतल यौवन के वन में लोलुप भ्रमर से मंडराए तुम ,
माना कुछ दोष मेरा भी था, क्यों प्रथम दृष्टि में भाये तुम ?

आँखें पहचान न सकीं ,दुष्यंत /
भेद जान न सकीं , दुष्यंत /
सामर्थ्य में दोष नहीं होते दुष्यंत ,
वनमानुषों के लिए राजकोष नहीं खोते दुष्यंत,
तुमने तृप्ति तट तक जिसे लूटा ,
आज उसी शीश पर यह पहाड़ टूटा ,
सुनो दुष्यंत, सुनो , निरापद पथ चुनो ,
शकुन्तला ! नष्ट नहीं करेगी अपना गर्भ ,
परन्तु शकुन्तला की विषम वेदना के दर्भ -
तुम को देते रहेंगे दंश ,
मेरे अंश से ही चलेगा तुम्हारा वंश ,

नृशंश, मानसरोवर से राजहंस के सामान-
मुक्ता चुगने वाले कपटी काग,
शकुन्तला की व्यथा की आग ,
जला कर राख कर देगी तेरा वैभव ,
शकुन्तला संवारेगी गर्भस्थ शिशु का शैशव ,
पाल- पोष कर बड़ा कर -
एक दिन तेरे वर्चस्व पथ पर खड़ा कर -
सगर्व पूछेगी ! बोल दुष्यंत ,
कैसे चाहता है वर्चस्व का अंत ?

जिस दिन शकुन्तला होगी इतनी शक्तिमान ,
पल भर नहीं सहेगी नारीत्व का अपमान ,
और तब संभवतः कोई अबला ,
नहीं बनेगी दूसरी शकुन्तला ! !